Sunday, 23 June 2013

किताबें बोलती है : 4


मिज़ाज़ कैसा है : अनवारे इस्लाम


बात करती हुई ग़ज़लों की किताब 


सूर तुलसी हों, मीरो ग़ालिब हों
सब मेरा खानदान है बाबा 
* * *
आज मैंने मना लिया उसको
मान जाएगा अब खुदा मेरा 
* * *
जो मस्जिद जा रहे है उनसे कह दो
कोई बच्चा अभी तक रो रहा है 

कोई खिड़की नहा गई होगी,
धूप कमरे में आ गई होगी।

जब वो आँगन में आ गई होगी,
चाँदनी तो लजा गई होगी।

मेरे हिस्से की नींद ग़ायब है,
उसकी नींदों में आ गई होगी।

शाम चहरा बिगाड़ बैठी है,
राह में धूप खा गई होगी।

ज़ख्म ख़ुद ही कुरेदता है वो,
लज़्ज़ते दर्द भा गई होगी।
* * *
          मोहतरम अनवारे इस्लाम साहब से कभी मिला नहीं हूँ पर फोन पर अकसर बातें होती है। पहेली बार मिलाने का , बात कराने का श्रेय जाता है असलम मीर को। फिर गूगल से मिले नीरज जी, और पढली साहब की किताबों की दुनिया फिर तो मेने भी ब्लॉग बनाया। फिर अनवारे इस्लाम साहब से बात की और किताब मांगली या यु कहो परेशान कर के ली। 
          शायर होना बहोत बड़ी बात है पर उससे भी बड़ी बात है एक बहोत बड़ा इन्सान होना।  मोहतरम अनवारे इस्लाम साहब वो शख्सियत है की आप से जो एक बार बात करता है साहब का हो जाता है। थोड़े दिन गुजरे नहीं की फोन आया नहीं। हिन्दी-उर्दू का द्वैमासिक सुखनवर सालो से चला रहे है। ऐ बहोत बड़ी सिध्धि है।

ऐसा हो कोई काम के पहचान बन सके
दुनिया की दास्ताँ से हटाकर रखे जिसे 
* * *
हम फ़रिश्ते नहीं है इन्सां हैं
रोज़ जीते है रोज़ मरते हैं 
* * *
          मेरा प्रयास समीक्षा नहीं है क्यूं की में न तो ईतना ग़ज़ल के बहर के बारे में जानता हूँ न वज़न के बारे में और न तो शाइरी के शिल्प और अरुज़े फ़िक्रो-फ़न के बारे में। मैं तो सिर्फ ग़ज़ल को महसूस करता हूँ। तो पेश है किताब के कुछ अंश।
          मोहतरम अनवारे इस्लाम साहब ने सामाजिक एकाकीपन, माहौल का दबाव और असुरक्षा को देखा और महसूस किया है तभी वो लिखते है -

लोग ऐसी मिसाल देते हैं,
नेकी दरया में डाल देते हैं।

राम बन जायेगा किसी दिन तू,

तुझको घर से निकाल  देते हैं।

आ करें हार-जीत को आसाँ,

एक सिक्का उछाल देते हैं।

घर जो लौटूँ तो फिर सवाल उसके,

और उल्जन में डाल देते हैं।

कोई घटना हो मीडिया कर्मी,

सारी ख़बरे उबाल देते हैं।

कोई उत्तर नहीं मगर चहरे,

कितने सारे सवाल देते हैं।
          

          मोहतरम अनवारे इस्लाम साहबने 'इसरो' भारत शासन और म.प्र. शासन के लिए धारावाहक एवं टेली फ़िल्में भी लिखी है,बाल साहित्य पर अनेकों तथा साक्षरता साहित्य पर 65 पुस्तकें प्रकाशित हैं। और ए भी बता दूँ कि उनकी अनुवादित पुस्तकों की संख्या भी 40 के लगभग है। 
          अनवारे इस्लाम साहब सम्पादक, पत्रकार और सामाजिक विचारधारा से जुड़े है और इसी लिए उनकी ग़ज़लों में ए प्रभाव साफ दिखाय देता है -

यूं तो होने को क्या नहीं होता
तुमसे मेरा भला नहीं होता 

सारा झगड़ा फ़क़त अना का है,
वर्ना कुछ मसअला नहीं होता 

भाई, भाई का साथ देता है
और कोई सगा नहीं होता 

सुहबतों से मिजाज़ बनता है
कोई अच्छा-बुरा नहीं होता

कौन करता है फ़ैसले मेरे
मुझको कुछ भी पता नहीं होता

खा न जाना फ़रेब चहरों से
इनपे सब कुछ लिखा नहीं होता 

            सीधी-सादी और सरल भाषा में अनवारे इस्लाम साहब अपनी बात कहेते है और साथ में मीर और निदा की  तरह ख़याल  पर शिल्प  को हावी  न होने देने के हामी है। उनकी गज़लें बयान और कथ्य की प्रगाढ़ता पर अधिक केन्द्रित है और शब्दों की कारीगरी में उनकी अधिक रूचि नहीं हैं।

नहीं आए हैं इसमें दाग लेकिन
मिरी चादर पुरानी हो रही है 
* * *
सच को छुपा के तूने किसी को बचा लिया
तेरा ये जूठ बोलना अच्छा लगा मुझे
* * *
याद रखते जो तुझको ख़ुशियों में
ज़िन्दगी यूँ दुखी नहीं होती
* * *
इसको तूफ़ान ही सँभालेंगे
नाव तो छोड़ दी है पानी में
* * *
काम से फुर्सत मिली न उम्र भर
और नहीं मालूम क्या करता रहा
* * *
उसकी आँखों में आ गए आँसू
मैंने पूछा मिज़ाज़ कैसा है
* * *
नये मौसमों की ये सौगात होंगे
मिलें ज़ख्म जो भी मुहब्बत से रखना

          इस किताब से कौन सी गज़ल पेश करू !!!कौन सा शेर !!!! पूरी किताब लाज़वाब है।

किताबें तुम्हारी महकती रहेंगी
हमारे ख़तों को हिफ़ाज़त से रखना
* * *
मैं लफ़्ज़ों में ख़ुद को समेटूँ तो कैसे
वो सुनना मिरी दास्ताँ चाहते हैं
* * *
जाने कितना रुलाएँगी ग़ज़लें मिरी
जाने किस-किस की पल्कें भिगो जाउँगा


          मिज़ाज़ कैसा है के शेर सिर्फ शेर नहीं है यह एक दस्तावेज भी है। अगर आप और हम इसकी तफसील में उतरना चाहते है तो मुहतरम अनवारे इस्लाम की तखलीक 'मिज़ाज़ कैसा है ' से गुजर जाइये-इस किताब को पढ़ते वक़्त हम कभी एक सहरा से गुजतें है जहाँ बिखरी उम्मीदों की रेत चमकती है। एक वीराने से गुजर जायेंगे जहाँ ख़ुलूस की खुश्बू सिर्फ खुद के ज़ज्बे के सिवा कहीं और से नहीं हासिल होती और आप बिलाशक़ एक मक्तल से गुज़र जायेंगे। उम्मीदों के बंधे हाथ बेहिसी की सूली पर वक़्त के हाथों अपना सर कलम होने का इंतजार कर रहे है।शाईर ने अपनी ज़हानत और शाईस्तगी पूरे सफ़र के दौरान बरकरार रखी है।

तल्ख गर ज़िन्दगी नहीं होती 
शाईरी, शाईरी नहीं होती 

हम न तुझको तलाश कर पाते
हाँ अगर बेख़ुदी नहीं होती

हमने केवल खुदा को पूजा है 
गैर की बन्दगी नहीं होती 

मुस्कुराके जवाब दे देते 
मुझको शर्मिंन्दगी नहीं होती 


          अनवारे इस्लाम साहब ने अपने कुछ पसंदीदा अल्फाज़ से कमाल के अशआर तख्लिक़ किये है। मिसाल के तौर पर उडान,अँधेरा,उजाला,कश्ती,परिन्दा आदी ............ हम चूनते है "घर"-

है मुश्किल पिता जी के घर को बचाना
मिरे भाई अपना मकाँ चाहते है
* * *
घर में तो मिरे कोई सामान नहीं है
ग़ालिब की ग़ज़ल मीर का दीवान नहीं है
* * * 
बारिशें पत्थरों की हम पर थीं
लोग महफ़ूज़ कांच-घर में थे
* * *
एक घर था बड़ा सा यहाँ पर कभी
छोटे-छोटे कई इसमें घर हो गए
* * *
बस ये उम्मीद लेकर गुजर जाएँगे
लौटकर हम कभी अपने घर जाएँगे
* * *
घर में रख दे तमाम नैतिकता
जैसा करते है लोग वैसा कर
* * *
बैठ पाया नहीं कभी घर में
कट गई उम्र आने-जाने में
* * *
लेके उम्मीदे निकलता हूँ मैं क्या-क्या घर से
रंग उड़ जाता है जब शाम को घर जाता हूँ
* * *
जाने क्या-क्या जमा किया घर में
और समझता रहा ये मेरा है
* * *
कई कमरे हैं उसके पास लेकिन
वो घर में एक कोना चाहता है
* * *
आँखों में मेरी झांक के अंदर भी देख ले
देखा है सिर्फ मुझको मिरा घर भी देख ले
* * *
अजनबी हो गए दरो-दीवार
घर के अन्दर भी घर नहीं लगता
* * *
क्या-क्या न एक झोंके से पल में बिखर गया
मैं मुत्मईन था खूब के सब कुछ तो घर में है
* * *
वो आए मिरे घर में हैं, क्या पूछना मेरा
मैं भी बहुत अच्छा मिरा महमान भी अच्छा 

          इस किताब को पाना बहुत आसान है-
प्रकाशक : आलेख प्रकाशन 
वी-8, नवीन शाहदरा
दिल्ली-110032

          अनवारे इस्लाम साहब से फेसबुक पर मिलने का लिंक 
मोबाइल : 09893663536

            अनवारे इस्लाम साहब का इ-मेल पता 

          सुखनवर के लिए पत्र व्यवहार -
सी-16, सम्राट कोलोनी अशोक गार्डन, भोपाल-462023
मोबाइल : 09893663536
ई-मेल : sukhanwar12@gmail.com

          मेरी पोस्ट से कहीं बेहतर पोस्ट पढने के लिए और किताब के बारे में ज्यादा जानने के लिए निचे दी गयी लिंक पर क्लिक करे -

जाते जाते अनवारे इस्लाम साहब की कुछ गज़लें -

हवा के साथ चरागों ने दोस्ती कर ली
अजीब लोग हैं घबरा के ख़ुदकुशी कर ली

बहुत फ़रेब है रिश्तों में चाँद सूरज के
उज़ाले माँग के लोगो ने रोशनी कर ली

दिलों के मामलें कैसे दिमाग समझेंगे
इसी गुमान में किस-किस से दुश्मनी कर ली

गुज़ार दी शबे तारीक गीत गा-गाकर
दिलों में दर्द लिए हमने ज़िन्दगी कर ली

चलो के टूट गया तेज़ धूप का जादू
लहू बखेर के सूरज ने ख़ुदकुशी कर ली
* * *
झूठ बोला है किस सफाई से
ऐसी उम्मीद थी न भाई से

इतना कहते हुए झिझक कैसी
काम बिगड़े भी है भलाई से

बात घर की है घर में रहने दे
फ़ायदा क्या है जग हंसाई से

बरकतें ही न घर की उड़ जाएँ
बचके रहिए ग़लत कमाई से

मोड़ आने लगा कहानी में
रोक दे दास्ताँ सफ़ाई से

सूद में क़िस्त जाती रहती है
अस्ल चुकता नहीं अदाई से
* * *
सगे भाई हैं उनमें प्यार भी है
मगर आँगन में इक दीवार भी है 

बहुत मासूम है चहरा किसी का
नहीं लगता के दुनियादार भी है

बहुत सी खूबियाँ है उसमें लेकिन
कमी बस ये के वो खुद्दार भी है

वो छुप-छुपकर जो साजिश कर रहा है
वो मेरा ख़ास रिश्तेदार भी है

चलो उस पेड़ को पानी पिला दें
ज़ईफ़ुल-उम्र सायादार भी है

वो करता है बहुत से कम फिर भी
हक़ीक़त ये के वो बेकार भी है

( मुझसे कोइ गलती रही हो तो माफी चाहता हूँ  )

20 comments:

  1. क्या बात है ....अशोक भाई जी ! कहने को अल्फाज़ ही नही ...हर शे'र लाज़वाब अपने आप में और आखिर की गज़ल ने तो आज की दुनियादारी बयाँ कर दी ........
    मुबारक कबूलें !
    स्वस्थ रहें!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहोत बहोत शुक्रीया

      Delete
  2. अनवारे इस्‍लाम साहब की ग़ज़लें सुकून देती हैं कि अब भी शायर बिना समझौते के ग़ज़ल कहते हैं और खूब कहते हैं।

    ReplyDelete
  3. क्या कहने ... अशोक जी इतने नायाब नगीने ... अनवारे इस्लाम साहब की गज़लों में हकीकत, रवानी, फलसफा जीने का अंदाज़ कूट कूट के भरा हुआ है ... हर गज़ल पे वाह निकल उठता है अपने आप ही ... बहुत शुक्रिया अशोक जी ...

    ReplyDelete
  4. Replies
    1. कहने को शब्द नहीं
      शुक्रिया और आभार
      ~~~~~~~~~~~~~~
      जो मस्जिद जा रहे है उनसे कह दो
      कोई बच्चा अभी तक रो रहा है
      बे-मिसाल
      सार्थक अभिव्यक्ति

      Delete
  5. अनवरे इस्लाम साब के अशआर और ग़ज़लों से आशना कराने के लिएये शुक्रिया.

    ReplyDelete
  6. बहुत बढ़िया,सुंदर गजलों को साझा करने के लिए ,,,

    Recent post: एक हमसफर चाहिए.

    ReplyDelete
  7. क्या बात है ..बहुत पसन्द आया
    गजलों को साझा करने के लिए ........हार्दिक धन्यवाद

    ReplyDelete
  8. मज़ा आ गया इतनी उम्दा शायरी पढ़कर,बहुत बहुत आभार अशोक भाई

    ReplyDelete